PM Kisan Yojana Physical Verification| लाभार्थियों का हो रहा है फिजिकल वेरिफिकेशन, जानें पूरी जानकारी

By | July 8, 2020

जैसा की सभी जानते है कि भारत सरकार किसानो के लिए कई सारी बेहतरीन योजनाए लेकर आती है। किसानो की हर छोटी और बड़ी मुश्किलों के लिए सरकार आर्थिक मदद भी करती है। हाल ही में कोरोना वायरस के कारण किसानो के खाते में 2000 रूपये की तीन क़िस्त अतिरिक्त दे रही है।

PM Kisan Yojana Physical Verification

वैसे तो किसानो को सालाना 6000 रूपये मिलते है, लेकिन इस बारे किसानो को 2000 रूपये की 3 क़िस्त अतिरिक्त दी जा रही है। ऐसा इसलिए करा गया, ताकि कोरोना वायरस के कारण किसानों को आर्थिक रूप से मुश्किलों का सामना न करना पड़े।

बता दे, कि कुछ सूत्रों के अनुसार PM Kisan Yojana के तहत अब कुछ लाभर्थियो का फिजिकल वेरिफिकेशन किया जा रहा है। इसका यह कारण है कि सरकार को ऐसा लग रहा है कि कुछ लोग जो इस योजना के पात्र नहीं है वे लाभ उठा रहे है।

जिन लोगों को इस योजना की जरूरत नहीं है वे भी इस योजना का फायदा उठा रहे है। ऐसे में जरूरतमंद लोगो तक इसका लाभ नहीं पहुंच पाता है। इसलिए इस योजना के तहत फिजिकल वेरिफिकेशन किया जा रहा है।

लाभार्थियों का हो रहा है फिजिकल वेरिफिकेशन

बता दें इस योजना के तहत लाभार्थी किसानो को सालाना छः हजार रूपये की आर्थिक मदद दी जाती है, जिसके तहत 2000 रूपये की तीन समान क़िस्त दी जाती है। इसके अलावा उन्हें कई सारी योजनाओ से लाभान्वित किया जाता है।

किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड भी दिया जाता है। इसके अलावा किसानो को लोन की सुविधा भी दी जाती है। बता दे की अभी तक किसानो के खाते में योजना के तहत पांच क़िस्त भेजी जा चुकी है और छठी क़िस्त 1 अगस्त से आना शुरू होगी।

ऐसे होगा लाभार्थियों का फिजिकल वेरिफिकेशन

अधिकांश लोग ऐसे है जो इस योजना के जरिये कई चीजों का लाभ उठा रहे है और वे लोग इस योजना के पात्र भी नहीं है और न किसी योजना की किसी भी नियम और शर्तों की पालना की है। सरकार 5 फीसदी लाभार्थियों को फिजिकल वेरिफिकेशन कर रही है।

मतलब कि सरकार जो जिन लोगों पर संदेह होगा उनका फिजिकल वेरिफिकेशन किया जायेगा और साथ ही सभी दस्तावेजों की जांच की जाएगी। यदि वे इस योजना के पात्र नहीं है तो उन्हें इस योजना के तहत कोई लाभ नहीं दिया जायेगा और अपात्र माना जायेगा। हो सकता कि उन लोगो से जुर्माना भी वसूल कर सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *