Cash Crop Cultivation: झिंकरी के किसान नकदी फसल की खेती करके लाखों कमा रहे हैं! जाने कैसे

By | December 14, 2020

Cash Crop Cultivation: हमीरपुर जिले की भोरंज तहसील से संबंधित एक छोटा सा गाँव झिंकारी (Jhinkari) नकदी फसलों (Cash Crops) की खेती के कारण सुर्खियों में आया है, क्योंकि राज्य सरकार के जेआईसीए (JICA) उपक्रम द्वारा उन्हें सहायता दी गयी है। इस तहसील के खेतों में, जो कभी पानी की कमी का अनुभव करते थे, उसी तरह नकदी फसलों की पैदावार शुरू कर दी है और इसने कई किसानों के तीन गुना से अधिक वार्षिक भुगतान का विस्तार किया है।

Cash Crop Cultivation: झिंकरी के किसान नकदी फसल की खेती करके लाखों कमा रहे हैं! जाने कैसे

Cash Crops Cultivation

वर्तमान में हमीरपुर जिले में स्थित भोरंज का एक छोटा सा गाँव, झिनकारी (Jhinkari), इसी तरह से विभिन्न जिलों के गाँवों की कतार में शामिल हो गया है, जिन्होंने JICA उपक्रम में फसल के विविधीकरण को अपनाकर खेती की छवि को बदल दिया है। दरअसल, शहर झिंकारी (Jhinkari) के खेतों में किसान (Farmer) कुछ समय से गेहूं और मक्का जैसी प्रजाति की फसलें उगा रहे थे और और पानी की पर्याप्त व्यवस्था न होने के कारण इन फसलों की पैदवार में पिछले कई सालों से कमी आयी है.

About Minimum Support Price: न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) क्या है, और इसके अंतर्गत कौन सी फसलें शामिल हैं? जाने विस्तार से

किसानों को दिया जा रहा है प्रशिक्षण

गाँव के तक़रीबन 61 किसान परिवार जेआईसीए उद्यम (JICA venture) से जुड़े थे और यहाँ की पुरानी जल प्रणाली योजना (water irrigation system) को ठीक करके लगभग 26 हेक्टेयर भूमि को जल सिंचाई प्रणाली दी गई थी। वर्तमान हार्डवेयर, कार्य वाहन, पंप, पाइप, स्प्रिंकलर और कई अलग-अलग सुविधाएं किसानों को लगभग 4 लाख रुपये में सुलभ कराई गईं एवं किसानों को अतिरिक्त रूप से केंचुआ खाद (earthworm manure) बनाना सिखाया गया।

नकदी फसलों से किसानों की अर्थव्यवस्था मजबूत हो रही है

जेआईसीए (JICA) के माध्यम से सभी सुविधाएं और मार्गदर्शन प्राप्त करने के बाद, झिंकारी (Jhinkari) के किसानों (Farmer) को वर्तमान में खरीफ मौसम में कद्दू की फसलों, हल्दी, अदरक, और टमाटर की अच्छी पैदावार मिल रही है, जबकि गोभी की फसलें, मटर, धनिया, माशा, शलजम, चना, अलसी और सरसों जैसी नकदी फसलों को विकसित करके उनकी अर्थव्यवस्था मज़बूत कर रही हैं।

Kisan Andolan: किसान आंदोलन से जुड़ी 3 महत्वपूर्ण बातें क्या हैं? विस्तार से विश्लेषण

गाँव के सुधारवादी किसान विशेष रूप से मनोहर लाल, हेमराज, चैन सिंह, देवराज, दिलीप सिंह और कई अन्य लोग नकदी फसलों से महान बना रहे हैं। महिला स्वयं सहायता संगठन (Women SHG’s) को गांव में स्थापित किया गया है और महिलाओं को मशरूम निर्माण में प्रशिक्षित किया गया है।

1 लाख 66 हजार की लागत लगाकर की गई पॉली हाउस की स्थापना

जेआईसीए के तहत गाँव में सब्जियों के बेहतर वर्गीकरण के लिए लगभग 1 लाख 66 हजार रुपये की लागत से एक पॉली हाउस ( poly house) स्थापित किया गया है, जिसे एक सुधारवादी किसान हेमराज द्वारा रखा जा रहा है। नकदी फसल लगाने के साथ-साथ हेमराज इस पॉली हाउस में सब्जियां लगाते हैं।

पिछले खरीफ सीजन में, हेमराज ने पॉली हाउस में टमाटर लगाकर लगभग 45 हजार रुपये का कुल मुआवजा हासिल किया। जेआईसीए के परियोजना निदेशक डॉ विनोद कुमार शर्मा (Dr Vinod Kumar Sharma) ने कहा कि गांव झिंकरी (Jhinkari) के किसानों (Farmer) को एक साल पहले प्रत्येक फसल की पैदावार के लिए सालाना 2 लाख 40 हजार रुपये से अधिक मिलते थे। गाँव के किसानों का वार्षिक वेतन लगभग 68 हजार रुपये पूर्व था और फसल के विविधीकरण ने उनके वित्तीय दृष्टिकोण को बदल दिया है।

PM Swanidhi Scheme: पीएम स्वनिधि लाभार्थियों के सामाजिक-आर्थिक उत्थान के लिए सरकार ने कार्यक्रम शुरू किया

PM Kisan Samman Nidhi Yojana: यूपी में 2 करोड़ से अधिक किसानों को मिलेंगे 4333 करोड़ रुपए

Overdraft Facility For Farmer: कर्नाटक विकास ग्रामीण बैंक द्वारा शुरू की गई किसानों के लिए ओवरड्राफ्ट सुविधा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *